top of page
Search

Haar-Jeet

हां, तेरी याद तो आती रहती है,

पर हां, अब तेरे होने न होने से कोई फर्क तो नही पड़ रहा है।


मेरी तरफ़ से तो कोई जंग तो थी नही,

पर शहीद तो मेरा दिल जरूर हुआ है,

तेरी तरफ से जंग अगर थी तो,

जीत मुझे मेरी ही समझ आ रही है।


क्योंकि हारा मैंने तुझे होगा कभी,

पर तूने मुझे हराके कैसी जीत पाई है।।





Comments


words for the day

bottom of page